बच्चों की होम-वर्क डायरी

कुछ रिश्ते होते हैं बच्चों की होम-वर्क डायरी की तरह
हमने ग़म को पहना है दिल पर किसी ज़ेवर की तरह


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

Published by

Vinay Prajapati

Vinay Prajapati 'Nazar' is a Hindi-Urdu poet who belongs to city of tahzeeb Lucknow. By profession he is a fashion technocrat and alumni of India's premier fashion institute 'NIFT'.

3 thoughts on “बच्चों की होम-वर्क डायरी”

  1. हमने ग़म को पहना है दिल पर किसी ज़ेवर की तरह
    ‘ kya baat khee hai, ‘

    regards

  2. utar do us jewar ko jisse taklif ho
    riste samjh aate hai,gam jab najdikho,
    aur kuch riste aise hote hai,jaise udhte badal karib ho
    e rab de koi sadka ab hame risto se aur na taklif ho
    kyo dost is sher par “aapki” kuch achi tarif ho

  3. बहुत-बहुत शुक्रिया सीमा जी! अश्विनी बाबू अपना एक ब्लॉग बना लो फिर बहुत मज़ा आयेगा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *