उसकी आँखें

मैंने कभी उससे बात नहीं की मगर क्यों उसकी आँखें मुझको पहचानती हैं?
क्या जानती हैं मेरे बारे में, क्या जानना चाहती हैं उसकी आँखें?
कभी आश्ना तो कभी अजनबी लगती हैं उसकी आँखें, मानूस आँखें!

उसकी आँखें पहचानती हैं मुझे, मगर कुछ कहती नहीं…
वो गुज़रती है जितनी बार सामने से –
एक बार तो मुड़ती हैं, उठके झुक जाती हैं, उसकी आँखें

उनकी कशिश कमसकम एक दफ़ा तो अपनी जानिब खींच ही लेती है
मेरी बेज़ुबाँ आँखें चाहकर भी उससे कह नहीं सकतीं कि…
उसकी आँखें कितनी ख़ूबसूरत हैं, उसकी आँखों की कोई तफ़सील नहीं…

(DB के नाम)
Penned on 31 Dec 2004

गुलाबी चाँद ने याद किया है तुझे

गुलाबी चाँद ने याद किया है तुझे
एक दर्द का टुकड़ा दिया है मुझे

जिसके साथ बैठा हूँ आज की शाम
ज़हन से जाता नहीं तेरा नाम

आँखें ख़िज़ाँ के ज़र्द पत्तों-सी हैं
तन्हाइयाँ दिल में रहने लगी हैं

रूठ गया है वक़्त का हर लम्हा
फिर कर गया है मुझको तन्हा

नहीं देखा तेरा चेहरा आज की शाम
किसके सर जायेगा यह इल्ज़ाम

ख़ुदा आप जाने बन्दे पर रहमत
किसने खींची है लकीरों में क़िस्मत

मेरा दिल बना है रेत का दरिया
तुझसे मिलने का कौन-सा ज़रिया


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

उसका सूरज जलते-जलते राख़ हो गया

उसका सूरज जलते-जलते राख़ हो गया
मेरा चाँद पिघलते-पिघलते पिघल गया
ना उस दिन उसके दिल से उफ़ आयी
ना आज तक मेरे दिल से आह निकली

मेरे पास उसकी दी हुई हर एक चीज़ है
जो न उसने मुझसे बेतरह माँगी कभी
न उसने कुछ कहा ही ख़त के ज़रिए
और न मैंने ही यह नब्ज़ बाँधी कभी

वह लबों को सीं कर
बैठा रहता है मेरे पास ही
उससे मेरी इक शर्त है
जो न मैंने तोड़ी
और न उसने तोड़ी कभी
वह नयी शाख़ पर पहला फूल था
ज़िन्दगी का एक उम्दा उसूल था
क़ुबूल किया था मैंने उसको
अपना हाथ देकर
पर मैं न उसको कभी क़ुबूल था

ज़िन्दगी के रंग आँखों की नमी ने सोख लिए
मैं फिरता रहा हमेशा ही उसकी याद लिए
मालूम नहीं वह ख़ाब था या कोई रंग था
मेरे जिस्म का मोम जलता रहा फ़रियाद लिए

वह आया था मेरी ज़िन्दगी में
सूरज की पहली किरन जैसे
वह फिरता था दिल के बाग़ीचे में
इक चंचल हिरन जैसे
उसके लबों से उड़ती थी
तितलियाँ हँसी बनकर
अब वह बैठा रहता है
अपने माथे पर शिकन लिए
इक बार फिर वहीं आ गये
जहाँ से चले थे पहले कभी-

उसका सूरज जलते-जलते राख़ हो गया
मेरा चाँद पिघलते-पिघलते पिघल गया
ना उस दिन उसके दिल से उफ़ आयी
ना आज तक मेरे दिल से आह निकली


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

जो मुझको जानते हैं

जो मुझको जानते हैं ज़रा कम जानते हैं
जो नहीं जानते हैं ज़रा ज़्यादा जानते हैं

जो ढीठ बनके बैठा हुआ है मेरी जानिब
वो नहीं जानता है कि बहुत ढीठ है ‘विनय’

यह एक दिन न ढलेगा, ढलेंगे लाखों सूरज
देखता हूँ कब तक बैठोगे फेरके अपनी सूरत

बस शिकन में छुपा लोगे तुम अपनी चाहत
मगर कैसे छुपाओगे इक तड़प की हालत

ख़ुद से थोड़ा मुतमइन हूँ और तुझसे भी
जाने क्या बात है तुम कुछ कहते नहीं

देखता हूँ शर्त तू जीतेगी या मैं जीतूँगा
न हारना तेरी फ़ितरत में होगा न मैं हारूँगा


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

क्यों बेशर्म क़तरा-क़तरा ज़हन नहीं ढलता

क्यों? बेशर्म क़तरा-क़तरा ज़हन नहीं ढलता
क्यों? मुझे बेक़रारियों से क़रार नहीं मिलता
क्यों? ढल रहा हूँ दिल में ख़ुद के ही, आज!
क्यों नहीं हूँ कोशिशे-इश्क़ में, ख़ुद के ही आज?
मग़रूर तो हूँ मैं, मजबूर भी हूँ, ऐसा क्यों?
आज तक बेकसूर भी हूँ मैं, न जाने ऐसा क्यों?

पनाह दे दे, पाँव में किसी के जगह दे दे, मुझे
भटकता हुआ ख़ुद ही बीन रहा हूँ अपने टुकड़े!


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४