जिसके लम्स ने तख़लीक़ किया

लोग कहते हैं इश्क़ ने किया है मुझको गुमराह
दुनिया में आया हूँ जिसके लिए करे मुझको ज़िबह

जिसके लम्स ने तख़लीक़ किया तेरे ‘विनय’ को
किसने बनायी उसकी निगाहों में शिकनो-गिरह


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३-२००४

चंद अशआर और…

मुझे तुमसे मिलके मुकम्मिल होने का वक़्त है
एक सूखा हुआ दरया हूँ जिसको घटा की प्यास है
–x–
मेरे दामन में खु़शियाँ समेट के रख दे वह
मैं उसे अपना चारागर इब्ने-मरियम कहूँ
–x–
वक़्ते-मुराद हासिल हो तमन्ना खा़ली ना जाये
मैं हूँ अपने बोझ तले असरे-दुआ खा़ली ना जाये
–x–
अभी हुआ क्या यह तो इब्तदा है
इन्तहाँ के मज़े आइन्दा लूटिएगा
–x–
जला दूँ शमाओ-इश्क़ दिले-ख़ाराबाँ में
कि वह बदनाम होती है तो होवे
–x–
तूने कुछ ऐसा किया हो मैं हो जाऊँ शर्मिन्दा
मेरे हिसाब में ऐसी शर्मिन्दगी लाज़मी नहीं
–x–
तेरे ही नूर से रोशन हुई थी निगाह मेरी
और आज मैं तुझसे निगाह चुरा रहा हूँ
–x–
जानता नहीं जाने क्यों मुझे यह यक़ीन है
मासूमियत का नक़ाब न होगा तेरे चेहरे पर


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००२-२००४