ख़ुदाया तोड़ मेरे ख़ाब को उसकी कमी क्यों है

ख़ुदाया तोड़ मेरे ख़ाब को- उसकी कमी क्यों है
ख़ुश्क पन्नों में मेरे दर्द की- धुँधली नमी क्यों है
kh.udaaya toR mere kh.aab ko’ uskii kamii kyo’n hai
kh.ushk panno’n mein mere dard kii dhu’ndhlii namii kyo’n hai
21:57 27-08-2013

उम्मीदें टूट जाती हैं, दुआ जब रूठ जाती है
अब्र बरसे नहीं- दिल में तेरे सौंधी ग़मी क्यों है
ummeide’n TooT jaatii hai’n, duaa jab rooTh jaatii hai
abr bar’se nahii’n dil mein tere sau’ndhii ghamii kyo’n hai
22:10 27-08-2013

किसे देखूँ, किसे चाहूँ, किसे टोकूँ, किसे छेड़ूँ
दर्द की जोत जल जाये नब्ज़ मेरी थमी क्यों है
kise dekhoo’n kise chaahoo’n kise Tokoo’n kise chheRoo’n
dard kii jot jal jaaye nabz merii thamii kyo’n hai
22:25 27-08-2013

फ़र्क़ की बात है वरना कमी कोई नहीं मुझमें
इश्क़ की राह पर ये ख़ुश्क-सी काई जमी क्यों है
farq kii baat hai warnaa kamii ko’ie nahii’n mujh’mein
ishq kii raah par ye kh.shk-sii kaa’ie jamii kyo’n hai
00:44 07-09-2013

सही उसने मुझे न कहा कभी ये बात तो सच है
अगर सच्चा नहीं तो भला झूठा आदमी क्यों है
sahii usne mujhe na kahaa kabhii ye baat to sach hai
agar sachchaa nahii’n to bhalaa jhooTha aadamii kyo’n hai
18:08 08-09-2013

मुझे मेहर तेरी गर मिल सके तो रंज बढ़ने दे
अक़ीदत में इबादत ‘नज़र’ इतनी लाज़मी क्यों है
mujhe mehar terii gar mil sake to ranj baDh.ne de
aqeedat me ibaadat ‘Nazar’ itnii laazmii kyo’n hai
00:56 07-09-2013

बहर: बह्र-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम
Baher: 1222 1222 1222 1222
__________________________
शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
कृतिकाल: 18:08 08-09-2013
Poet: Vinay Prajapati ‘Nazar’
Penned: 18:08 08-09-2013

Published by

Vinay Prajapati

Vinay Prajapati 'Nazar' is a Hindi-Urdu poet who belongs to city of tahzeeb Lucknow. By profession he is a fashion technocrat and alumni of India's premier fashion institute 'NIFT'.

6 thoughts on “ख़ुदाया तोड़ मेरे ख़ाब को उसकी कमी क्यों है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *