ॐ शक्ति है

ॐ शक्ति है ॐ ही ईश्वर प्रतीक है
ॐ नश्वर है ॐ ही सर्वत्र एक है
ॐ भक्ति है ॐ ही शान्ति मंत्र है
ॐ जगत है ॐ ही जीवन तंत्र है

ॐ में तुम हो ॐ हर कण तुम में
ॐ मृदा धातु जल वायु गगन में

ॐ सत्य है ॐ ही चिंतन मनन है
ॐ आत्मा है ॐ ही प्रभु शरण है
ॐ विष्णु है ॐ ही त्रिकाल महादेव है
ॐ दृष्टि है ॐ ही सुर और रव है

ॐ विद्यमान है प्राण है हर जीव में
ॐ ही सजीव में ॐ ही निर्जीव में

ॐ संगीत है ॐ ही श्रेष्ठ मित्र है
ॐ असत्य पर विजय का शस्त्र है
ॐ ब्रह्माण्ड है ॐ उत्पत्ति सूत्र है
ॐ मोक्ष है ॐ ही मुक्ति स्रोत है

ॐ चहुँ ओर ज्ञान का प्रकाश है
ॐ कष्टकाल अंधकार का विनाश है


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: १९९८

6 Replies to “ॐ शक्ति है”

  1. anand dayak; om ki shakti aur uski mahatta kavita men pirokar apne kavya ko sushobhit kar diya apki ye kavita nahi hai shlok hai stotra hai pratkal path karne layak hai bahut bahut sadhuwad

  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन बुलेटिन में लिंक्स हों – ज़रूरी तो नहीं (5) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है … सादर आभार !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *