ज़ुलेख़ा

तुम्हें कई बार देखा है मैंने
सिंदूरी शाम पे रात मलते हुए
कई बार चाँद की तरह
चेहरा छुपा लेती हो
और कई बार पाया है
नदी किनारे तन्हा बैठे हुए

कुछ बातें भूली बिसरी याद करती हो
बरसे फिर वो चाँद की मिसरी
फ़रियाद करती हो

वो महकी हुई संध्या आज भी होगी
पलाश के फूलों में
खु़शबू भरने की खा़हिश आज भी होगी

हमेशा से खा़ब में तुम्हें देखा है
खा़हिश थी जिसकी तू ही वो ज़ुलेखा़ है
बेवजह ही धूप की परवाह करती हो,
खु़द ही गिला खु़द ही शिकवा करती हो

उन पलकों में नमी आज भी होगी
उनमें किसी दिलबर का खा़ब रखने की
खा़हिश आज भी होगी…

तुम्हें कई बार देखा है मैंने
सिंदूरी शाम पे रात मलते हुए…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००२

एक सफ़्हा

सुबह एक सफ़्हा, शाम एक सफ़्हा
दिन एक सफ़्हा, रात एक सफ़्हा

ज़िंदगी एक सफ़्हा,  साँस एक सफ़्हा
धूप एक सफ़्हा, छाँव एक सफ़्हा

खा़हिश एक सफ़्हा, आरज़ू एक सफ़्हा
खा़ब एक सफ़्हा, आँख एक सफ़्हा

बहार एक सफ़्हा, पतझड़ एक सफ़्हा
झूठ एक सफ़्हा, सच एक सफ़्हा

सूरज एक सफ़्हा, चाँद एक सफ़्हा
ग़ज़ल एक सफ़्हा, गीत एक सफ़्हा

खा़मोशी एक सफ़्हा, हँसी एक सफ़्हा
आँसू एक सफ़्हा, खु़शी एक सफ़्हा

दिल एक सफ़्हा, धड़कन एक सफ़्हा
जिस पर तेरी तस्वीर बनी है,
जिस पर तेरा नाम लिखा है…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

और बहुत कुछ…

तुमसे चाहत है
तुमसे इबादत है
मुझे इश्क़ है तुमसे …

तुमको देखा तो जाना
प्यार क्या है ज़िन्दगी क्या है

तुमसे शुआ है
तुमसे फ़ज़िर है
फूल में महक है तुमसे …

तुमको देखा तो जाना
तमन्ना क्या है खा़हिश क्या है

तुमसे खु़शी है
तुमसे निबाह है
फ़रहत जवाँ है तुमसे…

तुमको देखा तो जाना
इल्म क्या है जन्म क्या है

और बहुत कुछ…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: जून/२००३