ज़ख़्मे-जिगर भर आये, कहाँ हो तुम?

ज़ख़्मे-जिगर भर आये, कहाँ हो तुम?
बदरा सावन बुलाये, कहाँ हो तुम?

अपने हश्र तक पहुँचा ‘नज़र’ आज
मौत यह मुझको सताये, कहाँ हो तुम?


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

जिगर को चाक करना चाहता हूँ

जिगर को चाक करना चाहता हूँ
साँसों में दर्द भरना चाहता हूँ

गीली आँखों में सच्चे अफ़साने
ऐसे जीवन से डरना चाहता हूँ

नस-नस में डुबो रखा है उसे
जिसके दिल में रहना चाहता हूँ

कोई ‘नज़र’ को मुख़ातिब करे तो
मैं उसकी बात करना चाहता हूँ


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

महफ़िले-उश्शाक़ में आशिक़ हम-सा न पाओगे

महफ़िले-उश्शाक़ में आशिक़ हम-सा न पाओगे
बेकार की बातें हैं सभी दिल को कब तक जलाओगे

सहर में शुआ शाम को माह बनके निकलते हो
जिगर में बस गये हो जी को कब तक दुखाओगे

आँखों से हाल बयाँ करना माशूक़ की अदा होती है
देखते हो चुपके-चुपके आँखें कब तक चुराओगे

जो कहोगे हम वही कर गुज़रेंगे दिल से
कब तक करोगे जफ़ाएँ हमें कब तक आज़माओगे

साल यह भी ज़ाया किया हरजागरदी में हमने
होकर जी से नाचार जीते हैं कब तक लौट आओगे


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

वो जिसे इश्क़ कहता था

वो जिसे इश्क़ कहता था वाइज़1 हम उसमें फँस गये
बहाये इतने आँसू कि जहाँ खड़े थे वहीं धँस गये

न जिगर से लहू बहा न लब तक अपनी बात आयी
गिरियाँ2 दिल ही में बादल बने वहीं बरस गये

रह-रहके रूह छोड़ना चाहती थी इस ज़ोफ़3 बदन को
इतना चाहते हैं तुम्हें कि मरने तक को तरस गये

कोई पढ़ दे मेरा नसीब हमको क्या-क्या बदा4 है
हमें लगता है हम जहाँ-जहाँ भी गये अबस5 गये

किस तरह से भूलें तुमको किस तरह से भुलायें
दिल, जान, ख़्याल और तस्व्वुर6 में तुम बस गये

दिल लिया तुमने ग़म नहीं बारहा7 जान क्यों लेते हो
फिर गुज़रे सामने से और फिर मुझपे हँस गये

शब्दार्थ:
1. धर्मोपदेशक, 2. आँसू, 3. कमज़ोर, 4. निश्चित, 5. व्यर्थ, 6. याद, 7. बार-बार


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

हर गाम इक मंज़िल है

ज़िन्दगी तेरे साथ से क्या मिला जुज़1 तन्हाई के
हर गाम2 इक मंज़िल है लोग मिले रुसवाई के

अब भरोसा ही उठ गया दुनिया के लोगों पर से
अहले-जहाँ3 कब क़ाबिल थे सनम तेरी भलाई के

चाक जिगर यूँ फड़का कि तड़प के फट गया
ऐजाज़े-रफ़ूगरी4 कैसा तागे टुट गये सिलाई के

वो फ़ज़िर5 के रंग वो शाम का हुस्न अब कहाँ
चंद कुछ निशान थे सो मिट गये तेरी ख़ुदाई के

हिज्र6 के रंग में सराबोर7 हैं अब मेरी रातें
काँटों के बिस्तर पे बिताता हूँ अब दिन जुदाई के

करवटें बदल-बदल के मेरी रातें गुज़रती हैं
नसीब नहीं अब मुझे हुस्न तेरी अँगड़ाई के

शब्दार्थ:
1. मात्र; 2. क़दम; 3. दुनिया वाले; 4. रफ़ूगरी का जादू; 5. भोर; 6. विरह; 7. भीगी


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४