आँखों की ख़ुशबू को छुआ नहीं महसूस किया जाता है

आँखों की ख़ुशबू को छुआ नहीं महसूस किया जाता है
दिल को बहलावा नहीं दर्द दिया जाता है
दर्द जो है इश्क़ में वह ही ख़ुदा है सबका
दर्द के पहलू में यार को सजदा किया जाता है

आँखों की ख़ुशबू को छुआ नहीं महसूस किया जाता है…

तुम याद आ रहे हो और तन्हाई के सन्नाटे हैं
किन-किन दर्दों के बीच ये लम्हे काटे हैं
अब साँसें बिखरी हुई उधड़ी हुई रहती हैं
हमने साँसों के धागे रफ़्ता-रफ़्ता यादों में बाटे हैं

आँखों की ख़ुशबू को छुआ नहीं महसूस किया जाता है…

इस जनम में हम मिले हैं क्योंकि हमें मिलना है
तुम्हारे प्यार का फूल मेरे दिल में खिलना है
दूरियाँ तेरे-मेरे बीच कुछ ज़रूर हैं सनम
मगर यह फ़ासला भी एक रोज़ ज़रूर मिटना है

आँखों की ख़ुशबू को छुआ नहीं महसूस किया जाता है…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

सहने दे ग़म थोड़ा-थोड़ा

सहने दे ग़म थोड़ा – थोड़ा
जो तुमने रुख़ मोड़ा-मोड़ा

जान यह जाने दे ज़रा-ज़रा
रहने दे आँखों को भरा-भरा

सपने सारे मेरे टूटे
जो साथी तुम मुझसे रूठे

मरना गर मेरा वफ़ा हो
तो मेरी जान क्यों ख़फ़ा हो

आना तो न जाना तुम कभी
तुमसे हैं मेरी जाँ ख़ाब सभी

साँसें बन जाओ ख़ाली सीने की
प्यास दे जाओ जीने की

दिल मेरा भी इक ख़ला है
तेरे इन्तिज़ार में जला है

ये लम्हे रोक लो तुम
फिर न आयेंगे हुए जो ग़ुम


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

वह इक पल संजो लिया है

वह इक पल संजो लिया है
आँख में रखके भिगो दिया है
महक रहे हैं वह सारे लम्हे
ख़ुद को उनमें डबो दिया है

ख़ुश-रू तेरी मीठी-मीठी बातें
उफ़ तौबा यह हिज्र की रातें
धुँधले-धुँधले चाँद के चेहरे
गुज़र रही हैं मिसरी जैसी रातें

सोया जाऊँ यह रात तो गुज़रे
सुबह आयें तेरे ख़ाब सुनहरे
मुझको जगा दे उससे मिला दे
यार से मिलके यह ख़िज़ाँ उतरे

महक रहे हैं जो फूल गुलाबी
मद्धम धूप इनपे बिछा दी
अपने दिन यूँ ही गुज़रते हैं
किसकी आँखों ने शाम दिखा दी


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

उड़ते हुए दिन, दबी हुई रातें

उड़ते हुए दिन, दबी हुई रातें
सीने में बजती हैं…
ओस की सूखी बूँदें किसकी राहें तकती हैं

पत्थर है दिल फिर भी गलता है
बहता हुआ वक़्त धीरे चलता है
काँच की परछाईं-सा है कुछ पीछे-पीछे
महसूस नहीं होता कुछ आँखें मीचे-मीचे

उड़ते हुए दिन, दबी हुई रातें
सीने में बजती हैं…
दो-दो शक्लें टूटे-से आइने में बहती हैं

बीती हुई गलियों में पाए पड़े हैं
कुछ महके हुए-से साये खड़े हैं
बातें करती, उजली-उजली पुरवाई है
मेरे आँगन में सूखे कुछ लम्हे लायी है

उड़ते हुए दिन दबी हुई रातें
सीने में बजती हैं…
ऐसे ही दो टुकड़ों पर साँसें जीती रहती हैं


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: ३१ मई २००३

जब पतझड़ के मौसम आते हैं

तुझे देखा तू ही मेरी हमनशीं
तुझे चाहा तू ही मेरी जान-सी
तुझे देखा मैंने तुझे चाहा तुझे
सिर्फ़ तू ही मेरी सखी, सखी…

जब पतझड़ के मौसम आते हैं
पेड़ों से पत्ते पीले झड़ जाते हैं
जब पतझड़ के मौसम आते हैं
पेड़ों से पत्ते पीले गिर जाते हैं
पत्ते वह फिर से वापस आते हैं
पेड़ों पर फिर से वापस आते हैं
फूलों के गुच्छे हवा में लहराते हैं
आते-आते दिल क़रीब आते हैं

तुझे देखा तू ही मेरी हमनशीं
तुझे चाहा तू ही मेरी जान-सी
तुझे देखा मैंने तुझे चाहा तुझे
सिर्फ़ तू ही मेरी सखी, सखी…

परवाने शमअ पर मर मिटते हैं
आशिक़ ऐसे कहाँ कब मिलते हैं
दीवाने शमअ पर मर मिटते हैं
साहिब, ऐसे कहाँ अब मिलते हैं
होते हैं उजाले मिटते जाते अँधेरे
दो दिल मिल जायें होते हैं सवेरे
दिए जलते हैं व गुल खिलते हैं
लम्हे रुकते हैं, ख़्याल बहते हैं

तुझे देखा तू ही मेरी हमनशीं
तुझे चाहा तू ही मेरी जान-सी
तुझे देखा मैंने तुझे चाहा तुझे
सिर्फ़ तू ही मेरी सखी, सखी…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: १९९८-१९९९