रिश्ते

कुछ रिश्ते
वक़्त की आँच पर
धीरे-धीरे तपकर
एक दिन
राख हो जाते हैं

फ़ना हो जाते हैं
ख़ाब हो जाते हैं…

kuchh rishtey
waqt kii aanch par
dheere-dheere tapkar
ek din
raakh ho jaatey hain

fanaa ho jaatey hain
kh.aab ho jaatey hain…

Penned: 01:10; 03/11/2014
© Vinay Prajapati, All rights reserved.

और कैसे रक़ीब के यार हमसे पेश आते

और कैसे रक़ीब के यार हमसे पेश आते
वह हमसे अय्यारी नहीं तो और क्या फ़रमाते

हमारी क़िस्मत में जीते-जी फ़ना होना लिखा था
क्योंकर न हम अपने रक़ीबों से मात खाते

मैं ही मिला अपने ख़ुदा को इस सबके लिए
हरीफ़ाना क्योंकर न मेरे रक़ीब पेश आते

न कोई यार है न कोई दुश्मन किसी का
अपने-अपने मतलब के लिए सब हाथ हैं मिलाते

क्यों दिल के टुकड़ों से अब भी आह निकलती है
किसके पास सच्चे दोस्त हैं, किसको समझाते


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३