You’re an angel

You’re an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be

You are my dream
That I wanted
In my life
I never found
Someone like you
You’re my type

Don’t take me wrong
If I got hurt you
Don’t be angry

You are an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be

Through my eyes
You look gorgeous
You look best
You are the one
Compare to whom
Beauty is dust

I was all alone
You turned me on
Thanking you gladly

You’re an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

वक़्त का पहना उतार आये

वक़्त का पहना उतार आये
कुछ लम्हे मरके गुज़ार आये

ख़ाबों में सही अपना तो माना
दिल को मेरे अपना तो जाना

खट्टे-मीठे रिश्ते चख लिये हैं
कुछ सच्चे पलकों पे रख लिये हैं

ख़ाहिशों का बवण्डर है दिल
दिल को उसके दर पे छोड़ आये

तेरी रज़ा क्या मेरी रज़ा क्या
वफ़ाई-बेवफ़ाई की वजह क्या

दस्तूर-ए-इश्क़ से रिश्ते हुए हैं
दिलों में रहकर फ़रिश्ते हुए हैं

ख़ला-ख़ला सजायी एक महफ़िल
महफ़िलों से उठके चले आये

वक़्त का पहना उतार आये
कुछ लम्हे मरके गुज़ार आये


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४ 

कोई तो तुम्हें पाने की राह मिले

कोई तो तुम्हें पाने की राह मिले
कभी तेरे आगोश में पनाह मिले
मैं शज़रे-धूप की छाँव में बैठा हूँ
कभी तो इनायते-निगाह मिले

तुम हाथ तो बढ़ा दो मेरे मसीहा
ज़ख़्मों पे रख दो मरहम का फीहा
बेबसी में मेरा दम घुटने लगा है
फिर से सौंधी हुई सुबह मिले

रुख़े-ख़ुशी मेरी तरफ़ मोड़ दो
मेरे दर्द का हर तागा तोड़ दो
एक ही ख़ाहिश है मेरी बरसों से
तेरे दिल में मुझे जगह मिले

मैं अपनी कोशिशों में रहूँ क़ाबिल
इस दरिया को मिले तेरा साहिल
तुम्हीं से ज़िन्दगी को मानी मिला है
काश कि तेरी-मेरी हर राह मिले

मुश्किलें सब यह आसाँ हो जायें
जो हम दो जिस्म एक जाँ हो जायें
लम्हों में सदियाँ तय कर चुका हूँ
तेरा-मेरा दिल किसी तरह मिले


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

You deceived me

I am a jerk, I am a creep
But what are you?
You deceived me by knowing
You are mean, you know

Silly I was, silly I am
I am in love with you
It’s my destruction, my fall
Waiting for you my angel

Hurt me, break me like the glass
Compel them to do so
I’m helpless, I need mercy
Friends behave like foe

Silly I was, silly I am
I made castle in the air
I dreamed all unfortunately
Now you’re so happy

Someday time will turn towards me
To take me higher than high
I will look at you that day
then you’ve to cry…, cry


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2006