हम जो साँस लेते हैं ज़िन्दगी के लिए

हम जो साँस लेते हैं ज़िन्दगी के लिए
तुझे भी माँग लेते हैं बन्दगी के लिए

ये इनायत की ख़ुदा ने तुमको बनाया
ख़ैर! कोई तो है मेरी अवारगी के लिए

यह हुस्न जो ख़ुदा ने तुमको बख़्शा है
इक यही नाज़ है मेरी सादगी के लिए

तुम आये रंग आये और बहार आयी
बादल बरसे हैं दिल की लगी के लिए

हो कुछ तो मुश्किल मुझे इस इश्क़ में
एक हद तो चाहिए दीवानगी के लिए

बनती हैं मेरे ख़ाबों में किसी की तस्वीरें
उठती है इक आग तिश्नगी क लिए

सीना बहुत सीमाब है मेरा बेक़रारी में
इक नयी सहर नयी ताज़गी के लिए

सनम मुझको मैं सनम को देखता हूँ
क्या कुछ और है दिल्लगी के लिए

हम जो शाम ही से चराग़ जलाये बैठे हैं
दिल में जो डर है सो तीरगी के लिए

खुला है मेरा बाइसे-इश्क़ उन पर
मैं हैरान हूँ उन की हैरानगी के लिए

मुद्दा कहूँ कि न कहूँ उस बुत से
मैं करूँ क्या दिल की बेचारगी के लिए

जताऊँ उसे इश्क़ किस तरह ‘नज़र’
बोसा, दिलो-जाँ क्या दूँ पेशगी के लिए

शब्दार्थ:
तिश्नगी: प्यास; सीमाब: भारी; तीरगी: अंधेरा
बाइसे-इश्क़: इश्क़ की वजह; बोसा: चुम्बन


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

तुम गर हो सीना मुझको बना लो धड़कन

तुम गर हो सीना मुझ को बना लो धड़कन
आतिश बहे नस-नस में मिटे शीत की कम्पन

जिस सूरत पे दिल आ गया उसपे निसार है सब
मेरी यह उम्र, यह जान, यह यौवन

रंग-बिरंगे फूल खिले ख़ुशबू बिखरी हर-सू
मन की तितली फिरती है गुलशन-गुलशन

प्यार का जादू अब हम समझे क्या होता है
हम-तुम दोनों जैसे पानी और चन्दन

अब्रे-मेहरबाँ एक फ़साना रहा मुझको
चन्द्रमा खो गया जिसमें मेरी बढ़ा के लगन

वादा-ए-निबाह न किये फिर भी टूटे मुझसे
है नसीब मुझको बिन चाँद यह स्याह गगन

तेरी नज़र ने ज़िबह किया बारहा मुझको
रहा ताउम्र मुझ पर तेरा ही पागलपन

‘नज़र’ तेरी मेहर को बैठा है आज तलक
मरासिम बना के मुझसे जोड़ लो यह बन्धन


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

ख़ुशबू के आइने ने

ख़ुशबू के आइने ने
मेरे चेहरे पर धूप बिछा दी
जो बात भूल गया था
एक बार फिर याद करा दी

वक़्त ने आवाज़ दी
ऐ ज़िन्दगी आज फिर हैराँ हूँ
कल तक मैं क्या था
सोचो तो आज मैं कहाँ हूँ

सूखे हुए लफ़्ज़ हैं
अब नज़्म की बात क्या होगी
बहार के पुरज़ों ने
अब ज़र्द ख़िज़ाँ को विदा दी

तेरा रेशमी उजला
आइने-सा रुख़ न भूल पाऊँगा
मैं गुज़र रहा हूँ
पर बीती गली न लौट पाऊँगा

अब्र गुज़रे सहरा से
वक़्त की रेत उसने भिगा दी
शज़र की प्यास बुझे
किसने उसको मिराज़ दिखा दी


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

तुमको मैंने दिल दिया है

तुमको मैंने दिल दिया है
यह जाँ भी दे दें… कह दो…
अरमानों के फूल खिले हैं
तुम पे बरसा दें… कह दो…

तुमको अजनबी रास्तों में
अपना हमसफ़र बना लें
मेरा जीना मरना तुमसे
ख़ुद को मिटा दें… कह दो…

चेहरे पर हया रहने दो
चाँद पे बादल उड़ने दो
बेचैन धड़कनें रवाँ-रवाँ
यह शाम बुझा दें… कह दो…

लोगों के कहने पर मत जा
मुझको और ना तड़पा
यह प्यार ख़त्म न होगा
ख़ुद को भुला दें… कह दो…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

सुनो! एक शिकायत है तुमसे

सुनो! एक शिकायत है तुमसे
तुम क्यों आती नहीं ख़ाबों में
ख़ुशबू छूता हूँ जब साँसों में
दिखती हो तुम बंद आँखों में

सुनो! एक शिकायत है तुमसे
तुम क्यों आती नहीं ख़ाबों में

यह दुनिया जन्नत हो जाये
जो मिला करो तुम ख़ाबों में
मखमली लब जब हिलते हैं
खिलता है बसंत शाख़ों में

सुनो! एक शिकायत है तुमसे
तुम क्यों आती नहीं ख़ाबों में 

तेरे जिस्म की महक जुदा है
चाहे तुम चाँद बनो बादलों में
रंग तेरे मेरी आँखों की चमक
तुम तितली दिल के बाग़ों में

सुनो! एक शिकायत है तुमसे
तुम क्यों आती नहीं ख़ाबों में


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४