You are my first and last love

You are my first and last love
form the first encounter1
my heart is trying to shove2

You are my first and last love
I swear I swear I swear

Heart found a place to dwell
deep inside of your bosom
spring has reason to bloom
now, there no place to autumn

You are my first and last love….

You smile so pretty so beautiful
that’s why, I liked you in a while
felt a goddess come to be mine
to bask me with her gorgeous smile

You are my first and last love…

You stole my heart my pain
that I have to say is everything
everything is love only love
your face to me is soothing

You are my first and last love….

1. meeting by chance, 2. forcing


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

You’re an angel

You’re an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be

You are my dream
That I wanted
In my life
I never found
Someone like you
You’re my type

Don’t take me wrong
If I got hurt you
Don’t be angry

You are an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be

Through my eyes
You look gorgeous
You look best
You are the one
Compare to whom
Beauty is dust

I was all alone
You turned me on
Thanking you gladly

You’re an angel
Come to earth
Only for me
Most beautiful
In whole world
As one should be


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

माहे-कामिल कहूँ कि शाहे-ख़ुदा कहूँ

माहे-कामिल कहूँ कि शाहे-ख़ुदा कहूँ
हुस्न-बानो कहूँ कि रंगे-फ़िज़ा कहूँ
आपको कहूँ तो आख़िर मैं क्या कहूँ

आपका हुस्न तो बेमिसाल है
रूप, रंग, अदा का विसाल है
उन्तिस चाँद में भी दाग़ है
आपका बदन रेशमी आग है

इस रेशमी आग को कहूँ तो क्या कहूँ
हुस्न-बानो कहूँ कि रंगे-फ़िज़ा कहूँ

हुस्न आपका सबसे आला है
रब ने किस साँचे में ढाला है
चाँदनी में खिला हुआ कँवल हो
मुझको अल्लाह का फ़ज़ल हो

अल्लाह के फ़ज़ल को नाम क्या दूँ
माहे-कामिल कहूँ कि शाहे-ख़ुदा कहूँ


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: ३१ मई २००३

हसीन उस नाज़नीन से कोई नहीं

हसीन उस नाज़नीन से कोई नहीं
ज़्यादा उस महज़बीन से कोई नहीं

न दोस्ती है न बाइसे-गुफ़्तार ही
शिगुफ़्ता उस हसीन से कोई नहीं

दर्द तो दिल का मरहम ठहरा
शिकवा उस जाँनशीन से कोई नहीं

आस उससे मिलने की अभी यहीं है
तस्कीन इस तस्कीन से कोई नहीं

दिल तो पागल है ‘नज़र’ शैदाई है
रंग ख़ुश उस रंगीन से कोई नहीं


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३