Mushy thoughts are chasing my way

Mushy thoughts are chasing my way
There’s no more to happen on
Elsewhere find the words to say
Mushy thoughts are chasing my way

I’m learning how to live happy
It’s too tough to be a raspy
I wanna go through a new day
Mushy thoughts are chasing my way

There’s no more to happen on
Elsewhere find the words to say

Simplicity decipher myself, what I am?
An unbound desire That’s my name
And tracing a very new day
Mushy thoughts are chasing my way

There’s no more to happen on
Elsewhere find the words to say

Wrap all my pain in a paper
In my heart may you be the zephyr
In this love I am not a lay
Mushy thoughts are chasing my way

There’s no more to happen on
Elsewhere find the words to say


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

I am sitting beneath the sunset

I am sitting beneath the sunset
and looking for your love (love)
’cause there’s no reason,
(no reason) to be happy or upset
I am sitting beneath the sunset…

Zephyr’s refreshing all my wishes
evening fills these into my eyes
I want to fly to your city (love)
where’re all my dreams and tries

I am sitting beneath the sunset
and looking for your love (love)

All my sores ache and soul yells
I forgot myself somewhere in you
scraping the moments from the past
but they’re vaporising like the dew

’cause there’s no reason,
(no reason) to be happy or upset
I am sitting beneath the sunset…


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

भीगी चाँदनी रातों में

भीगी चाँदनी रातों में
दिल से तेरी बातों में
ऐसा लग रहा है
तू मेरी बन गयी है
मैं तेरा बन गया हूँ

ख़ाब बुनती हैं आँखें
फूलों से लदी हैं शाख़ें
ऐसा लग रहा है
तू ख़ुशबू बन गयी है
मैं गुल बन गया हूँ

हल्की-हल्की आँच है
मेरी नब्ज़ में काँच है
ऐसा लग रहा है
तू लहू बन गयी है
मैं जिस्म बन गया हूँ

तारे, चिंगारियाँ हैं
चाँदनी, उजली बर्फ़ है
ऐसा लग रहा है
तू लौ बन गयी है
मैं दीप बन गया हूँ

लफ़्ज़ मीठे-मीठे हैं
ग़म फीके-फीके हैं
ऐसा लग रहा है
तू मिसरी बन गयी है
मैं ज़बाँ बन गया हूँ

दिल ग़मख़्वार है
मौसम ख़ुशगँवार है
ऐसा लग रहा है
तू दिल बन गयी है
मैं जाँ बन गया हूँ


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

ज़िन्दगी ढूँढ़ते-ढूँढ़ते मैं तुम तक आ गया

ज़िन्दगी ढूँढ़ते-ढूँढ़ते मैं तुम तक आ गया
सरे-राह मैं अपनी मंज़िल पा गया
चराग़ों का नूर हो, चश्मे-बद्दूर हो
तुम्हें देखकर दिल अँधेरों से दूर आ गया

ख़ुशियों के दीप जल उठे, ग़म सारे बुझ गये
पतझड़ उतरा, गुल शाख़-शाख़ खिल गये
इक-इक धड़कन में नाम तुम्हारा है
तुम्हारी मोहब्बत का जादू मुझपे छा गया

ख़ुशबू-ख़ुशबू मैंने तुमको पाया सनम
मोहब्बत में तेरी ख़ुद को मिटाया सनम
तेरी पहली नज़र से क़त्ल हुआ था मैं
लहू के हर क़तरे में तेरा प्यार समा गया

राज़ दिल के सभी आँखों से बयाँ कर दो
राहे-मुहब्बत मेरी तुम आसाँ कर दो
नहीं कोई अरमाँ तेरी चाहत के सिवा
बस तेरा ही चेहरा दिलो-दिमाग़ पे छा गया


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

जब भी तेरा नाम लेती हैं

जब भी तेरा नाम लेती हैं
बहुत ख़ुश होती हैं आँखें
मुस्कुराती हैं तेरे लबों से
कहीं ज़्यादा हसीं होके…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००२