फ़िराक़ को अजल विसाल को जीवन जाना

फ़िराक़ को अजल विसाल को जीवन जाना
यह कि झूठ को सच मतलब को मन जाना

वहम की धूल जब गिरी पलकों से
हमने सच और झूठ का सारा फ़न जाना

आँखों से आपकी तस्वीर उतारी न गयी
हमने शबो-रोज़ चाँद को रोशन जाना

जिस्म ख़ाहिशमंद था रूह सुलगती थी
हमने बुझते बादलों को सावन जाना

हम भी शाइरी के फ़न सीखने लगे ‘नज़र’
जबसे जन्नतो-जहन्नुम का चलन जाना

फ़िराक़= separetion, अजल=death, fate, विसाल=meeting


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

I hate everything

I hate everything means everything
I love only my passion
I paint my dreams on canvas
I do exactly as the brat

Like the music, like the rhythm
Live the life whatever result comes
Be sure if you’re guilty
Believe always in tit for tat

People who are selfish n’ eccentric
Would never let you live
I am master of all devils
I do devilry n’ I like all that

I’ll live all seven lives in hell
If you’re not there
I am happy to be all alone
The taste of revenge is great

To the shortest path I’ll go long
You’re use to say it is wrong
I will do what I like most
You better know it’s not my defeat


Words: Vinay Prajapati
Penned: 2006-2007

वबाए-इश्क़ से नजात कैसे हो

वबाए-इश्क़ से नजात कैसे हो
नफ़रत हो तब इल्तिफ़ात कैसे हो

जन्नत है गर जहन्नुम-सी
फिर तेरे अग़ियार हो नशात कैसे हो

मशगूल हूँ इस क़दर तुममें
अपनी मौत से भी एहतिआत कैसे हो

आइन्दा से नाफ़िक्र हूँ आज मैं
मुझसे बेहतर अदू की बात कैसे हो

‘नज़र’ पे ख़ुदा भी न रहम खाये
गर उसे हो भी तो इख़्तलात कैसे हो


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

क़लक़ इक हनोज़ है दिल में

आतिशे-दोज़ख़ का सोज़ है दिल में
आहो-फ़ुगाँ खा़मोश है दिल में

मैं दीदारे-दिलनशीं को बेताब हूँ
क़लक़ इक हनोज़ है दिल में


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३-२००४

I’m not software

I’m not software
To use that you can crack
I’m strong enough
Can hold this earth on my back

You supposed yourself genius
But you are not
By your side love is cold
Yet for me it’s hot

We both know the reason
Why tears are hideaway
You can’t hide all
Turn your face to mine

You can quit this game
Anytime for any reason
Just think about me
Think about your obsession

Go to hell, die in own
I can’t say this all to you
You can’t runaway from here
Turn your face to mine

You’re a computer expert
You can uninstall all damage
I’m not error of your life
That you can try to troubleshoot

I’m not blind
I can see all that you hide
All the pain, all the hate
Turn your face to mine


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2006