गेरुआ तेरे नयना, मस्जिद हैं या जाम

दोहे: 13,11

हृदय को ये तड़पायें, लुटा चैन आराम
गेरुआ तेरे नयना, मस्जिद हैं या जाम
Hruday ko yeh taRpayein, lutaa chain aaraam
geru’aa tere nayanaa, masjid hain ya jaam

बहल जायेगा दिल भी, सुनकर तेरा नाम
बदरा बरसे धरा पर, सूखी पुरनम शाम
bahal jaayega dil bhii, jo liyaa teraa naam
badaraa barse dharaa par, sookhii pur’nam shaam

प्यार करके डर कैसा, होगे क्यों बदनाम
मीठे बोल दो बोलो, ये तो है इल्हाम
pyaar karke Dar kaisaa, hoge kyo’n bad’naam
meethe bol do bolo, ye to hai il’haam

मंदिर में बैठा रहा, मैं पहने एहराम
दुख मैंने कितना सहा, अब तो ला दे जाम
mandir mein baiTha rahaa, main pahne ehraam
dukh maine kitna sahaa, ab to laa de jaam

______
Poet: Vinay Prajapati ‘Nazar’
Penned: 22:15 29-08-2013

थोड़ी कशिश तुझसे, थोड़ा क़रार रहने दे

थोड़ी कशिश तुझसे’ थोड़ा क़रार रहने दे
पागल दिल को ज़रा बेइख़्तियार रहने दे
thoRii kashish tujhse’ thoRaa qaraar rahne de
paagal dil ko zaraa be-ikh.ti’yaar rahne de

दीन जुदा हैं अगर तो क्या हुआ, मेरे रब्बा
दिल की तड़प का हल्का-सा ख़ुमार रहने दे
deen juda hain agar to kyaa huaa’ mere rabba
dil kii taRap ka halkaa-sa kh.umaar rahne de

तुम्हें हँसकर कभी देखा न जाये है मुझसे
दिल में अपने जलन की ये शरार रहने दे
tumhein ha’nskar kabhii dekhaa na jaaye hai mujhse
dil mein apne jalan kii ye sharaar rahne de

मैं तेरा हो नहीं सकता, ज़ख़्म सुलगते हैं
अच्छा है, मेरे दिल को सोगवार रहने दे
main teraa ho nahii’n sakta, zakh.m sulag’te hain
achchha hai, mere dil ko sog’vaar rahne de

ज़िद करना तेरे हक़ में अब नहीं रहा, गोया
दिल हल्का हो गया लेकिन ग़ुबार रहने दे
zid karna tere haq me ab nahii’n raha, goya
dil halka ho gaya lekin ghubaar rahne de

बहस न छेड़ बढ़ती जायेगी, इश्क़ अक़ीदत है
वाइज़, मुझमें हक़ीक़त ये शुमार रहने दे
bahas na chheR baDh.tii jaayegii, ishq aqeedat hai
vaa’iz mujh mein haqeeqat ye shumaar rahne de

ज़ुल्म सहे फिर भी ख़ामोशी रही दुआ बनकर
तुझ पर जान कुछ मेरा ऐतबार रहने दे
zulm sahe phir bhii kh.moshii rahii duaa ban’kar
tujh par jaan kuchh meraa ai’tbaar rahne de

मैं ख़ुद से किनारा करके जुदा रहा ख़ुद से
अच्छा है, अगर वो बाहम दरार रहने दे
main kh.ud se kinaara karke juda rahaa kh.ud se
achchha hai, agar wo baaham daraar rahne de

चश्म मेरी तर रहे उसने यही दुआ की थी
वो दुश्मन हुआ है’ दिल उस्तुवार रहने दे
chashm merii tar rahe usney yahii duaa kii thii
wo dushman huaa hai’ dil ustu’waar rahne de

वो नज़दीकियाँ रखता है भले ही मतलब से
लेकिन तू उसे मेरा ग़मगुसार रहने दे
wo nazdeekiyaa’n rakhta hai bhale hii matlab se
lekin tuu usey meraa ghamgusaar rahne de

वो मिलकर न मिल पाया है मुझे, ख़ुदा है क्या
आमद का ‘नज़र’ उसके इश्तिहार रहने दे
wo milkar na mil paaya hai mujhe, kh.udaa hai kya
aamad ka ‘Nazar’ uskey ishti’haar rahne de

बहर/Baher: 2112 1112 2212 1222

_________
शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
कृतिकाल: 20:12 29-08-2013
Poet: Vinay Prajapati ‘Nazar’
Penned: 20:12 29-08-2013

जो ख़ता की न उसकी सज़ा दी गयी

जो ख़ता की न उसकी सज़ा दी गयी
कौन जाने क्यों कश्ती डुबा दी गयी
jo kh.ataa kii na uskii sazaa dii gayii
kaun jaane kyu’n kashtii dubaa dii gayii
19:58 26-08-2013

छीन कर प्यार मेरा ‘ ठहाके लगे…
और तन्हाई की बद्‌-दुआ दी गयी
chheen’kar pyaar meraa ‘ Thahaake lage…
aur tan’haa’ii kii bad’duaa dii gayii
20:31 26-08-2013

जो हुआ सो हुआ ‘ ये नयी रस्म है
ये जता कर ‘ पुरानी भुला दी गयी
jo huaa so huaa ‘ ye nayii rasm hai
ye jataakar ‘ puraanii bhulaa dii gayii
20:40 26-08-2013

चल पड़े हैं सफ़र पे मुसाफ़िर अश्क
सो गयी थी सुबह फिर जगा दी गयी
chal paRe hain safar pe musafir ashk
so gayii thii subah phir jagaa dii gayii
21:08 26-08-2013

आइना रो पड़ा है तेरी याद में
और मुझको भी थोड़ी पिला दी गयी
aa’inaa ro paRa hai terii yaad mein
aur mujh’ko bhii thoRii pilaa dii gayii
21:16 26-08-2013

वहम से हारना अब मुनासिब नहीं
हर बुझे दीप में लौ लगा दी गयी
wahem se haar’naa ab munaasib nahii’n
har bujhe deep mein lau lagaa dii gayii
22:07 26-08-2013

दर्द देगी जफ़ा उसकी’ बेहद मुझे
सो मुझे बेवफ़ाई सिखा दी गयी
dard degii jafaa us’kii behad mujhe
so mujhe bewafaa’ii sikhaa dii gayii
22:22 26-08-2013

वो मेरे शहर में ‘ अब नहीं है ‘नज़र’
क्यों मुझे आज ‘ ये इत्तिला दी गयी
wp mere shaher mein ab nahii’n hai ‘Nazar’
kyo’n mujhe aaj ye ittilaa dii gayii
21:37 26-08-2013

212 212 212 212
बहर-ए-मुत्दारिक मुसम्मन सालिम

___
शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
वर्ष: 22:22 26-08-2013

Poet: Vinay Prajapati ‘Nazar’
Penned: 22:22 26-08-2013

तोड़कर दिल मेरा जा रहे हो कहाँ

तोड़कर दिल मेरा जा रहे हो कहाँ
इश्क़ की जुस्त-जू में है आहो-फ़ुगाँ
toR’kar dil meraa jaa rahe ho kahaa’n
ishq kii just-juu mein hai aaho-fugaa’n
17:57 25-08-2013

अब किसे देखना है तुझे देखकर
तू इबादत मेरी ‘ तू ही मेरा जहाँ
ab kise dekh’naa hai tujhe dekh’kar
tuu ibaadat merii ‘ tuu hi meraa jahaa’n
18:06 25-08-2013

देखना है तेरी जोत को रात-दिन
नूर में तेरे शामिल है ये कहकशाँ
dekh’na hai terii jot ko raat-din
noor mein tere shaamil hai ye kah’kashaa’n
18:13 25-08-2013

जान, सजदे बिछाऊँ तेरी राह में
शिर्क की बात करने लगे सब यहाँ
jaan, sajde bichhaa’uu’n terii raah mein
shirk kii baat karne lage sab yahaa’n
18:20 25-08-2013

अहद करना वही तुम निभाना जिसे
राह मुश्किल हुई ‘ अजल है इम्तिहाँ
ahed karnaa wahii tum nibhaanaa jise
raah mushkil hu’ie ajal hai imtihaa’n
19:04 25-08-2013

ये गुलों से लदी शाख़ मुरझा गयी
सब ज़ख़्म ख़ुशबू के हो गये उर्रियाँ
ye gulo’n se ladii shaakh. murjhaa gayii
sab zakh.m kh.ushboo ke ho gaye urriyaa’n
20:31 25-08-2013

आज़मा लो मुझे जीत या हारकर
पर न कहना कभी तुम मुझे बद्‌गुमाँ
aazamaa ko mujhe jeet yaa haarkar
par na kah’naa kabhii tum mujhe bad’gumaa’n
21:50 25-08-2013

ऐ ‘नज़र’ ज़िंदगी बाँटती है ख़ुशी
क्या बनोगे नहीं तुम मेरे राज़दाँ
ai ‘Nazar’ zindagi baa’nT-tii hai kh.ushii
kyaa banoge nahii’n tum mere raazdaa’n
21:56 25-08-2013

212 212 212 212
बह्र-ए-मुत्दारिक मुसम्मन सालिम


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २०१३
Poet: Vinay Prajapati ‘Nazar’
Penned: 21:56 25-08-2013

सहूलियत मत देख रिश्तों में दोस्त

सहूलियत मत देख रिश्तों में दोस्त
फ़र्क़ है इंसाँ और फ़रिश्तों में दोस्त
sahooliyat mat dekh rishto’n mein dost
farq hai insaa’n aur farishto’n mein dost
11:06 25-08-2013

किसी बात का तज़किरा उतना ही कर
नुमाया न हो रंज ‘ किश्तों में दोस्त
kisii baat ka tazkiraa ut’naa hii kar
numaayaa na ho ranj ‘ kishto’n mein dost
11:26 25-08-2013

फ़सल पक रही है सुकूँ है ख़ुशी है
टँगा है वहाँ चाँद दरख़्तों में दोस्त
fasal pak rahii hai sukoo’n hai khushii hai
Ta’ngaa hai wahaa’n chaa’nd darkh.to’n mein dost
13:16 25-08-2013

ग़मी टपकती है अश्क बनके यारब
बुनूँ ख़ाब को ख़ुश्क पत्तों में दोस्त
ghamii Tapakatii hai ashk banke yaarab
bunoo’n kh.aab ko kh.ushk pat’to’n mein dost
14:07 25-08-2013

किताबें खुली हैं’ वो पढ़ भी रहे हैं
हँसी क्यों छिपे बंद बस्तों में दोस्त
kitaabein khulii hain, wo paDh bhii rahe hain
ha’nsii kyo’n chhipe band bassto’n mein dost
15:00 25-08-2013

लिखा नाम तेरा औराक़े-गुल पे
किये सजदे-मस्जूद रस्तों में दोस्त
likhaa naam teraa auraaq-e-gul pe
kiye saj’de-masjood rasto’n mein dost
15:55 25-08-2013

‘नज़र’ दर्द इख़लास की है निशानी
यही ख़ू रखी चंद रिश्तों में दोस्त
‘Nazar’ dard ikh.alaas kii hai nishaanii
yahii kh.oo rakhii chand rishto’n mein dost
16:11 25-08-2013

बहर/Baher:122 122 122 122
बहर-ए-मुतक़ारिब मुसम्मन सालिम


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २०१३
Poet Vinay Prajapati
Penned: 16:11 25-08-2013