उल्टे सूरज की आग जम गयी

सोचा था दिन चढ़ेगा दोपहर तक
तो सूरज की आग
सर्दियों के सर्द बादलों को ग़ुबार कर देगी
बहने लगेगा बदन में जमा हुआ लहू
और झपकने लगेंगी एक टुक अपलक पलकें
लेकिन ऐसा कुछ भी हुआ नहीं

दिन दोपहर तो चढ़ा पर बादल नहीं छटे
कोहरा नहीं पिघला
उल्टे सूरज की आग जम गयी,
ठिठुर गयी…
सर्द हवा ने बुझा दिया दिन का सूरज
उतरने लगा शाम के आगोश में दिन

आज शफ़क़ न गुलाबी न जाफ़रानी थी
बस नीला स्लेटी आकाश
अजीब उदासियों के साथ बैठा रहा
न जाने किसके इन्तिज़ार में…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

एक यही इल्तिजा है…

तुम्हें महसूस हो कि ना हो
मेरे सीने में दर्द है तो सही…

लम्हा-लम्हा जज़्बात पिघलते हैं ग़म की चिंगारियों में,
एहसास उबलते हैं मेरे,
ख़्याल मसलते हैं मुझे…

इक भँवर है आँखों में माज़ी का
मुझको पूरे ज़ोर से खींचता है अपने अंदर…
दिन-दिन, रात-रात, लम्हा-लम्हा, पल-पल
मैं हूँ कि डूबना ही चाहता हूँ
बचने की कोशिश भी नहीं करता

अब तो हाल मेरा यह है कि जिस सिम्त भी देखता हूँ
हर शै में तू नज़र आती है
सिर्फ़ तू….

नहीं चाहता महसूस करे तू मेरा दर्द
मगर कभी फ़ुर्सत मिले तो यह एहसास सुन ले
एक यही इल्तिजा है…


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

लहर इक ‘विनय’

लहर इक ‘विनय’
टकराया जो पत्थर से टूट गया
जब भी निकला आगे
उसके हाथों से एक हाथ छूट गया

जब भी बैठता है
वो यारों के साथ तन्हा बैठता है
उसकी यारी इक ख़ता निकली
पास जिसके भी गया वो रूठ गया

लहर इक ‘विनय’
टकराया जो पत्थर से टूट गया

नाचीज़ खु़द को खा़स समझ बैठा
‘वो’ अजनबी पेश रहा
जब दिल की बात ज़ुबाँ पर लाया
मरासिम टूट गया…

जब भी निकला आगे
उसके हाथों से एक हाथ छूट गया

ग़म क्या थे?
अफ़सोस किस बात का करता वह
जब जी में आया उसके
खु़द का दोस्त बनके खु़द से रूठ गया

लहर इक ‘विनय’
टकराया जो पत्थर से टूट गया
जब भी निकला आगे
उसके हाथों से एक हाथ छूट गया


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

My tears are hideaway

I don’t know why
my tears are hideaway
winter is gone and
trees are green
flowers are blooming

But when I see
the flowers of daisy
I can’t explain
what I feel inside of me
inside of me…

oh! I can’t forget
she used to say
don’t worry! I am with you
she is bold enough
strong enough

I’m reminiscing and
moments are broken
heart skips the beat
as an unfolded cipher
unfold the cipher…

Roads are moving ahead
but I’ve frozen feet
show me the path
where are you now?
how can I get you?
 

 


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 01/sep/2007

फिर आज किसलिए…

वक़्त की इक और गिरह खुल गयी
रूह में इक और शिगा़फ़ आ गया
बदन की हर साँस दर्द बन गयी
कि रोशनी को फिर अँधेरा खा गया

वक़्त छोटी-छोटी उम्मीदें
हर वो सपना जो आपकी आँखों ने देखा है
कैसे छीन लेता है
मुझसे बेहतर कोई नहीं जानता

जो रिश्ता मैंने बोया था
उसे अपने हाथों से तुमने खु़द सींचा था
फिर आज किसलिए
ज़ीस्त तेरी उसकी खु़शबू से जुदा है

आँसू आँखों की आँच में
किनारे तक आते-आते धुँआ हो रहे हैं
गीली पुरनम आँखों में
दिल का टुकड़ा-टुकड़ा जल रहा है

मैं बूँद-बूँद वक़्त को
तेरी खा़हिश के लिए जमा करता रहा
आज ऐसा लगता है कि
मैं दरम्याँ कोई दीवार चुन रहा था

मुझे तेरी जुस्तजू अब भी है
पर शायद तू आज भी खु़दग़रज़ है
वरना क्यों खा़मोश है
पहले की तरह कुछ कहता क्यों नहीं

 


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’