ॐ शक्ति है

ॐ शक्ति है ॐ ही ईश्वर प्रतीक है
ॐ नश्वर है ॐ ही सर्वत्र एक है
ॐ भक्ति है ॐ ही शान्ति मंत्र है
ॐ जगत है ॐ ही जीवन तंत्र है

ॐ में तुम हो ॐ हर कण तुम में
ॐ मृदा धातु जल वायु गगन में

ॐ सत्य है ॐ ही चिंतन मनन है
ॐ आत्मा है ॐ ही प्रभु शरण है
ॐ विष्णु है ॐ ही त्रिकाल महादेव है
ॐ दृष्टि है ॐ ही सुर और रव है

ॐ विद्यमान है प्राण है हर जीव में
ॐ ही सजीव में ॐ ही निर्जीव में

ॐ संगीत है ॐ ही श्रेष्ठ मित्र है
ॐ असत्य पर विजय का शस्त्र है
ॐ ब्रह्माण्ड है ॐ उत्पत्ति सूत्र है
ॐ मोक्ष है ॐ ही मुक्ति स्रोत है

ॐ चहुँ ओर ज्ञान का प्रकाश है
ॐ कष्टकाल अंधकार का विनाश है


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: १९९८

I hate everything

I hate everything means everything
I love only my passion
I paint my dreams on canvas
I do exactly as the brat

Like the music, like the rhythm
Live the life whatever result comes
Be sure if you’re guilty
Believe always in tit for tat

People who are selfish n’ eccentric
Would never let you live
I am master of all devils
I do devilry n’ I like all that

I’ll live all seven lives in hell
If you’re not there
I am happy to be all alone
The taste of revenge is great

To the shortest path I’ll go long
You’re use to say it is wrong
I will do what I like most
You better know it’s not my defeat


Words: Vinay Prajapati
Penned: 2006-2007