वह मुझको मुआफ़ रखे दुनिया के मामलों से

वह मुझको मुआफ़1 रखे दुनिया के मामलों से
मैं अब कभी किसी और से इश्क़ न करूँगा

दिल मेरा चाहे हो जाये टूटकर टुकड़े-टुकड़े
इस ग़म में आँखों को तर ऐ अश्क! न करूँगा

जो देखा है उस का चेहरा मैंने दो ही रोज़
इस बात का अपने ख़ुदा से रश्क2 न करूँगा

मेरे दिल में है तेरे ख़ाबों का इक भँवर-सा
जो हुआ यह दरया सो उसे खुश्क3 न करूँगा

दिल की दहलीज़ के भीतर रहेंगे मेरे ख़ाब
ख़ाबों को ज़ाहिर कभी मानिन्दे-मुश्क4 करूँगा

शब्दार्थ:
1. माफ़, forgive; 2. रश्क़ या रश्क, ईर्ष्या, envy; 3. सूखा, dry; 4. महक की तरह, like the smell


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

काश कि फिर वह सहर आती

काश कि फिर वह सहर आती
जब तू मुझे नज़र आती

तेरी आरज़ू है मुझे रात-दिन
कभी तू इस रहगुज़र आती

पलकें सूख गयीं राह तकते
तेरी कोई खोज-ख़बर आती

दरम्याँ रस्मो-रिवाज़ सही
तू फिर भी इधर आती

सहाब दिखे हैं सूखे दरया पे
कभी बारिश भी टूटकर आती

मौतें मरकर मैंने देखी हैं
कभी ज़िन्दगी मेरे दर आती

क़रार आ जाता पलभर के लिए
मेरे ख़ाबों में तू अगर आती

सहर: संध्या, सुबह, dawn, morning | सहाब: बादल, clouds


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

गुलाबी चाँद ने याद किया है तुझे

गुलाबी चाँद ने याद किया है तुझे
एक दर्द का टुकड़ा दिया है मुझे

जिसके साथ बैठा हूँ आज की शाम
ज़हन से जाता नहीं तेरा नाम

आँखें ख़िज़ाँ के ज़र्द पत्तों-सी हैं
तन्हाइयाँ दिल में रहने लगी हैं

रूठ गया है वक़्त का हर लम्हा
फिर कर गया है मुझको तन्हा

नहीं देखा तेरा चेहरा आज की शाम
किसके सर जायेगा यह इल्ज़ाम

ख़ुदा आप जाने बन्दे पर रहमत
किसने खींची है लकीरों में क़िस्मत

मेरा दिल बना है रेत का दरिया
तुझसे मिलने का कौन-सा ज़रिया


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

अजब-सी टीस लगी है

अजब-सी टीस लगी है
दस दूनी बीस लगी है,
आँखों में आँच भरी है
उन्नीस की बीस लगी है

दिल में दर्द उगते हैं
साँसें ठण्डी-ठण्डी हैं,
मेरा हर ख़ाब टूटा है
ख़ाहिश भीख लगी है

डालों से फूल गिर गये
ख़ुशबू के मौसम गये,
आइनों ने धोखा दिया
ज़िन्दा तस्वीर लगी है

रोशनी का दरिया बहे
मुझे कोई अपना कहे,
वह ख़लिश बुझाये तो
ज़िंदगी मरीज़ लगी है


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३

Still believe in love

I’m walking on the misty road
but still have faith in your love
this seems warm as the rising sun
this is splendid as the full moon

Still believe in love
I still believe in love

Baby you hurt me with your ego
but I still believe in your love
this is only truth second to lies
this is a spell webbed on our eyes

Still believe in love
I still believe in love

I am ruined down on my knees
can you give hands to hold me?
don’t let me be like the season
this pencil work can’t be undone

Still believe in love
I still believe in love

Give me smiles take my gentle kiss
my heart’s beating for your wish
don’t make me feeling deserted
you’re object of desire not hatred

Still believe in love
I still believe in love

I’m addicted to the daily dose
sometimes too far or too close
like a river flowing to the ocean
forget about nature I’m human

Still believe in love
I still believe in love


words: vinay prajapati
concept: 2003
penned: 2008