वह मुस्कुराया और रूठा भी

वह मुस्कुराया और रूठा भी
वह सच्चा है और झूठा भी

दूर था तो क़रीब था दिल के
उसकी बात से दिल टूटा भी

इक ख़ाब माना हमने जिसको
वह छाला बनकर फूटा भी

जिस कशिश पे हम मर बैठे
उस कशिश ने दिल लूटा भी


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

You are my first and last love

You are my first and last love
form the first encounter1
my heart is trying to shove2

You are my first and last love
I swear I swear I swear

Heart found a place to dwell
deep inside of your bosom
spring has reason to bloom
now, there no place to autumn

You are my first and last love….

You smile so pretty so beautiful
that’s why, I liked you in a while
felt a goddess come to be mine
to bask me with her gorgeous smile

You are my first and last love…

You stole my heart my pain
that I have to say is everything
everything is love only love
your face to me is soothing

You are my first and last love….

1. meeting by chance, 2. forcing


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

चोरी-चोरी तुम मुझको देखती

कभी कहीं हम-तुम मिलते, जब मिलते
लड़ते-झगड़ते, बिगड़ते-बड़बड़ाते
रूठते-मनाते और फिर चिढ़ते-चिढ़ाते
कभी कहीं हम-तुम, कभी कहीं हम-तुम

नहीं तुम, नहीं तुम! तुम्हें कुछ नहीं आता
इस बात पर तुम लड़ती, मैं झगड़ता
काश! ऐसा भी तेरे-मेरे साथ हो जाता
कभी कहीं कभी कहीं, कभी कहीं हम-तुम

पीछे-पीछे मैं तुम्हारे आता, तुम पलटती
मैं तुमको फूल देता और मुस्कुराता
तुम रूठती, मुँह बनाती, मैं मनाता
कभी कहीं कभी कहीं, कभी कहीं हम-तुम

छोटी-छोटी बातों पर बार-बार चिढ़ जाती
चिढ़कर मुझको चिढ़ाती, मुँह फुलाती
आँखें दिखाती, रूठी हो मुझको जताती
कभी कहीं कभी कहीं, कभी कहीं हम-तुम

कभी-कभी चोरी-चोरी तुम मुझको देखती
मैं कहता ‘क्या है’, तुम कहती ‘कुछ नहीं’
हम आँखों में एक-दूसरे का दिल पढ़ते
कभी कहीं कभी कहीं, कभी कहीं हम-तुम


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

Am I untrue?

Without you’ I am dying
My heart is crying’ baby
That’s love, drenched in wine

Unfold the truths’ unfold the lies’
There’s no flowers’ no fragrance
No leaves’ no butterflies

Sheer madness haunts me
For you, what I want to be
My pain, my sore, can’t you see?

Without you’ I am dying
My heart is crying’ baby
That’s love, but not divine

Want to touch you to love you
Anything rest to express you
Look at me, am I untrue?

Unfold the truths’ unfold the lies’
There’s no flowers’ no fragrance
No leaves’ no butterflies

Ease my troubles with smiles
Come closer to hold me
We’re apart by million miles


Words by: Vinay Prajapati
Penned: 2004

मैं रोज़ नयी तकलीफ़ें बुनता हूँ

मैं रोज़ नयी तकलीफ़ें बुनता हूँ
ज़िन्दगी के इस पुराने करघे पर
कि मैंने कभी सूत भी काता है
रिश्तों के इस टूटे हुए चरख़े पर

आँखें वीरान हैं दूर तक रेत ही रेत है
पानी का कहीं नामो-निशाँ नहीं है
सूरज भी उसकी मुस्कुराहट का ना आया, वो कहाँ है?
मेरी हर रात सूखकर बंजर हो गयी है

मोहब्बत मेरी अफ़साना बन गयी है
मैं रह गया हूँ इक किरदार बनकर…

बेजान यह जिस्म उघड़ने लगा है
रूह पर से सर्प की खाल की तरह
और यह मेरी रूह भी जल रही है
धधकती ख़ुशरंग आग की तरह

वह मुझे मिला था पिछली शामों को, हसीं चाँद जैसे!
उसने भी गुनाह किया है चुप रहकर


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००३